रेडीमेड कपड़ों की दुकान कैसे खोलें? (2023) | Readymade Clothing Business in Hindi

रेडीमेड कपड़ों की दुकान कैसे और कहाँ खोलें?, readymade clothing business plan and tips in hindi, Garments Business Ideas in hindi, clothing business ideas in hindi यह आप सबको kaise kya kare पूरी जानकारी देगा.

Readymade garments business: कपड़ों का व्यवसाय या रेडीमेड कपड़ों की दुकान आज भारत में बहुत तेजी से बढ़ने वाला व्यवसाय है. इस व्यवसाय में, व्यापारी के लिए कपड़ों में भारी मार्जिन के कारण व्यापारी के लिए लाभ के अवसर बहुत अधिक हैं.

लेकिन इस व्यवसाय के लिए व्यापारी को अपनी दुकान में ढेर सारी वैरायटी रखनी पड़ती है और साथ ही इस व्यवसाय में समय के साथ फैशन ट्रेंड बदलने का डर हमेशा बना रहता है. तो कपड़ों का व्यवसाय करना या रेडीमेड गारमेंट की दुकान खोलना कोई मज़ाक नहीं है, ऐसी कई बातें हैं जो एक व्यवसायी को ध्यान में रखनी होती है ताकि वह अपना व्यवसाय सफलतापूर्वक चला सके।

विषयसूची

रेडीमेड गारमेंट का व्यवसाय क्या होता है?

रेडीमेड गारमेंट्स की बात करें तो इस कैटेगरी में वे कपड़े रखे जाते हैं जो रेडीमेड गारमेंट्स के रूप में मार्केट में उपलब्ध होते हैं यानी उन्हें मार्केट से खरीदकर सीधे पहना जा सकता है. जबकि ऐसे कपड़े जो तैयार नहीं होते उन्हें खरीदकर दर्जी को सिलने के लिए देना पड़ता है, फिर वह उन्हें पहनने योग्य बना देता है।

ये रेडीमेड गारमेंट्स किसी व्यक्ति विशेष का नाप लेकर सिलाई की तर्ज पर नहीं बनाए जाते हैं। बल्कि मानव विज्ञान का अध्ययन करने के बाद वे लोकप्रिय तरीके से बनते हैं।

तो जो बिज़नस मैन यह कपड़े जो की मानव विज्ञान का अध्ययन करने के बाद लोकप्रिय तरीके से बनाते हैं, उस कपड़ो का व्यापार करता है उसे रेडीमेड गारमेंट्स का व्यवसाय कहते है।

रेडीमेड कपड़ों की दुकान

रेडीमेड गारमेंट्स बेचने की गुंजाइश?

बढ़ते शहरीकरण के कारण रेडीमेड गारमेंट्स की डिमांड दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। यही कारण है कि वर्तमान समय में इस प्रकार के वस्त्र हमारे दैनिक जीवन का अंग बन गये हैं

जैसा कि फैशन लगातार बदल रहा है, रेडीमेड परिधान उद्योग हमेशा गतिशील रहता है और यह एक सतत प्रक्रिया है जो वर्तमान में भारतीय अर्थव्यवस्था में एक विशेष स्थान रखती है। भारतीय अर्थव्यवस्था में, यह औद्योगिक उत्पादन, रोजगार सृजन और विदेशी मुद्रा आय में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

जिस तरह लोगों को अपना पेट भरना चाहिए, उसी तरह शरीर को ढंकना उससे भी ज्यादा जरूरी है। रोटी, कपड़ा और मकान तीन चीजें हैं जो किसी भी इंसान को जीने के लिए चाहिए। और तो और वर्तमान समय में लोग एक दूसरे का स्वभाव उनके कपड़ों से ढूंढ लेते हैं। वस्त्रों के आकार, प्रकार, रूप, गुण आदि भिन्न-भिन्न हो सकते हैं, परन्तु बिना वस्त्र के मनुष्य का रहना सम्भव नहीं है।

भारत के रेडीमेड गारमेंट उद्योग के लिए विदेशी बाजार भी फायदेमंद माने जाते हैं ऐसे में इनका निर्यात(export) भी काफी फायदेमंद साबित हो सकता है. कहने का आशय यह है कि घरेलू बाजार में रेडीमेड गारमेंट्स की मांग है, लेकिन इन गारमेंट्स का निर्यात(export) कर भी उद्यमी अपने व्यवसाय को काफी आगे ले जा सकता है.

रेडीमेड कपड़ों की दुकान कैसे खोलें? (How to open readymade garment shop in Hindi)

रेडीमेड गारमेंट व्यवसाय शुरू करना एक बहुत ही आसान प्रक्रिया है, हालांकि अगर उद्यमी खुद फैशन उद्योग से जुड़ा हो तो उसके लिए यह काम करना और भी आसान हो जाता है।

लेकिन आम तौर पर अगर हम रेडीमेड गारमेंट व्यवसाय शुरू करने की प्रक्रिया के बारे में बात करते हैं, तो हमें पता चलेगा कि इस व्यवसाय का प्राथमिक लक्ष्य उन्हें थोक व्यापारी से खरीदकर बेचना या हमारे कारखाने में रेडीमेड गारमेंट्स का निर्माण करना है।

लेकिन बावजूद इसके उद्यमी को इस प्रकार के व्यवसाय को शुरू करने के लिए कई कदम उठाने की आवश्यकता पड़ सकती है जैसे की डिजिटल मार्केटिंग(Digital Marketing) क्यूंकि आज कल सब लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे है और आप उन लोगो तक पोहोच सकते है जो आपके कपड़े खरीद सकते है, ताकि व्यवसाय के असफल होने की संभावना को काफी हद तक कम किया जा सके।

यदि आप टेलरिंग और फैशन डिजाइनिंग का ज्ञान रखने वाले व्यक्ति हैं, तो आपके लिए रेडीमेड गारमेंट व्यवसाय शुरू करना आसान होगा। हालांकि मौजूदा समय में बड़ी-बड़ी कंपनियां बड़ी-बड़ी मशीनों का इस्तेमाल कर बड़े पैमाने पर इस तरह का कारोबार कर रही हैं। लेकिन आप इसे छोटे पैमाने पर 4-5 कर्मचारियों को काम पर रखकर भी शुरू कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि कैसे एक इच्छुक उद्यमी इस प्रकार का व्यवसाय शुरू कर सकता है।

  1. निम्नलिखित कुछ श्रेणियां हैं जिन पर आप अपना गारमेंट स्टोर शुरू करने पर विचार कर सकते हैं।| Types of Readymade Garments in Hindi
    • संजातीय(ethnic) या भारतीय पहनावा – साड़ी, सलवार सूट, पुरुषों के लिए कुर्ता पायजामा आदि।
    • किड्स फैशन – बच्चों से लेकर 12 साल तक के कपड़े
    • पुरुषों के कपड़े– सूट, शर्ट, पेंट, जैकेट, जींस आदि।
    • महिलाओं की कैजुअल ड्रेस– स्कर्ट, जींस, टॉप, वन पीस आदि।
    • महिलाओं के सूट
    • स्पोर्ट्सवियर– जर्सी, स्विमसूट, फुटबॉल शॉर्ट्स, जिम टी-शर्ट, रनिंग टी-शर्ट आदि।
    • शादी का जोड़ा– साड़ी, लहंगा, शेरवानी आदि।
    • स्लीपवियर(night suit) या आंतरिक वस्त्र(Innerwear)
    • कॉस्टयूम क्लॉथ– स्टेज शो, डांस कॉस्ट्यूम, कैरेक्टर कॉस्ट्यूम आदि के लिए विशेष।
    • विशेष मातृत्व कपड़े(special maternity clothes)
    • सर्दियों के कपड़े
  2. कपड़ो का प्रकार चुनना होगा
    • इस बिजनेस के लिए सबसे पहली बात यह है कि आपको यह तय करना होगा कि आप अपने स्टोर में किस तरह के कपड़े बेचना चाहते हैं (जो की ऊपर बताये हुए हैं)। इसके अलावा, आपको यह भी तय करना होगा कि आप अपने स्टोर में बच्चों, युवाओं-लड़कों या लड़कियों या महिलाओं के लिए, किसके कपड़े बेचना चाहते हैं।
    • आप अपने स्टोर में एक से अधिक प्रकार के कपड़े रख कर लोगों को सेवा दे सकते हैं, लेकिन हम केवल किसी भी एक प्रकार से शुरुआत करने की सलाह देते हैं, वो आपके लिए सरल पड़ेगा।
  3. सही जगह(location)/बिल्डिंग का चयन करना होगा
    • इसमें कोई संदेह नहीं है कि प्रत्येक व्यवसाय के लिए एक अच्छा स्थान होना कितना महत्वपूर्ण है, विशेषकर खुदरा व्यवसायों के लिए। भीड़ भरे बाजार में, मुख्य सड़क जहां दूर से भी लोग आपके स्टोर को आसानी से देख सकते हैं, चलने की संभावना अधिक होती है।
    • वैसे तो उद्यमी किसी भी प्रसिद्ध वस्तु से अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है, लेकिन यहां स्टोर खोलने के लिए आवश्यक निवेश अधिक होता है साथ ही प्रतिस्पर्धा भी काफी दिखाई देती है। कम निवेश में इस प्रकार का व्यवसाय शुरू करने के लिए उद्यमी को स्थानीय बाजार में एक दुकान किराए पर लेनी पड़ती है। अथवा यदि यह दुकान कपड़े बेचने के लिए किसी प्रसिद्ध बाजार में किराए पर उपलब्ध हो तो यह उद्यमी के लिए अधिक लाभदायक हो सकता है।
  4. रेडीमेड गारमेंट्स व्यवसाय के लिए आवश्यक लाइसेंस प्राप्त करना |License for Readymade Garments Business
    • हालांकि रेडीमेड कपड़ों की दुकान के बिजनेस को छोटे स्तर पर शुरू करने के लिए टैक्स रजिस्ट्रेशन के अलावा शायद ही किसी और रजिस्ट्रेशन की जरूरत होगी. लेकिन यदि उद्यमी भविष्य में रेडीमेड गारमेंट्स बनाने के व्यवसाय को अगले स्तर पर ले जाने की योजना बना रहा है, तो उसे अपने व्यवसाय को कानूनी रूप से मजबूत करना होगा, ताकि भविष्य में कोई गड़बड़ी न हो। इसके लिए, उसे निम्नलिखित लाइसेंस और पंजीकरण प्राप्त करने की आवश्यकता हो सकती है।
    • उद्यमी को अपने व्यवसाय को प्रोप्राइटरशिप फर्म, पार्टनरशिप फर्म, वन पर्सन कंपनी, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी आदि में से किसी एक के तहत पंजीकृत कराना होगा। अगर आप खुद की नई कंपनी कैसे खोलें जानना चाहते है तो आप यह पढ़ सकते हैं।
    • जीएसटी पंजीकरण को टैक्स पंजीकरण के रूप में किया जाना होगा।
    • उद्यमी को स्थानीय प्राधिकारी जैसे नगर निगम, नगर पालिका, ग्राम पंचायत, या जो भी उस क्षेत्र में लागू हो, से ट्रेड लाइसेंस लेने की आवश्यकता हो सकती है।
    • व्यवसाय के नाम पर पैन कार्ड और चालू खाता(Current Account) खोलने की भी आवश्यकता हो सकती है।
    • यदि उद्यमी अपने ब्रांड नाम से कपड़े बेचना चाहता है तो उसे ट्रेडमार्क पंजीकरण भी करवाना होगा।
    • अपने व्यवसाय को MSME के ​​रूप में पंजीकृत करने के लिए, आपको उद्यम पंजीकरण करने की आवश्यकता होगी।
  5. रेडीमेड कपड़ों की दुकान के लिए फर्नीचर खरीदें
    • रेडीमेड कपड़े की दुकान का फर्नीचर बहुत महत्वपूर्ण होता है, यह आपके कपड़े की दुकान की शोभा बढ़ाता है, इसलिए फर्नीचर को थोड़ा और आकर्षक बनाएं। कपड़े की दुकान के फर्नीचर में सफेद रंग बेहतर होता है, आप अपनी पसंद का आकर्षक रंग (कोई भी हल्का रंग) भी देख सकते हैं।
    • कपड़े की दुकान का काउंटर एक लंबा काउंटर होता है क्योंकि इसके लिए काफी जगह की आवश्यकता होती है। दुकान के कुछ हिस्सों के लिए चेंजिंग रूम भी जरूरी होता है ताकि ग्राहक वहां कपड़े आजमा सकें। इसलिए अपनी कपड़े की दुकान में चेंजिंग रूम जरूर लगवाना चाहिए और उसमें एक पंखा लगवाएं ताकि जब ग्राहक कपड़े चेंज करे तो उसे घुटन महसूस न हो और शीशा भी लगाना चाहिए ताकि ग्राहक अपने पहने हुए कपड़े को आसानी से देख सकें। साथ ही दुकान में किसी एक दीवार पर शीशा लगाएं।
    • जब भी आप रेडीमेड कपड़ों की दुकान का फर्नीचर लगवाएं तो उससे पहले किसी अच्छे कपड़े की दुकान का काउंटर और साज-सज्जा देख लें और आप उससे कुछ आइडिया ले सकते हैं। ऐसे आप कपड़े की दुकान में बेहतर काउंटर और फर्नीचर लगवा सकते हैं ताकि आप दूसरों से हटकर लगें।
  6. दुकान के लिए अपने कपड़ों के आपूर्तिकर्ता खोजें
    • देखिये इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए उद्यमी के पास दो विकल्प होते है जिसमे पहला विकल्प होता है किसी होलसेलर से कपड़े खरीद कर अपनी दुकान के माध्यम से बेच कर कमाई करना। और दूसरा विकल्प यह है कि उद्यमी अपने कारखाने में वस्त्रों का निर्माण करेगा और फिर उन्हें अपने आउटलेट के माध्यम से ग्राहकों को बेचेगा।
    • हालांकि शुरुआती दौर में कम बजट में इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए पहला विकल्प उपयुक्त है, लेकिन उद्यमी को उस क्षेत्र में सक्रिय कपड़ों के थोक विक्रेता से संपर्क करना चाहिए। इस सेक्टर में बहुत सारे सप्लायर होंगे इसलिए उद्यमी को कम से कम तीन सप्लायर से कोटेशन प्राप्त कर लेना चाहिए और सप्लायर का चयन करने से पहले उनका तुलनात्मक विश्लेषण कर लेना चाहिए।
  7. टारगेट कस्टमर को पहचाने और उस हिसाब से कपड़े रखें
    • रेडीमेड कपड़ों की दुकान के लिए, आपको शुरू से ही अपने लक्षित ग्राहक तय करने होंगे। क्योंकि इस बिजनेस में महिलाओं के कपड़ों के लिए अलग तरह के ग्राहक होंगे, लड़कों के कपड़ों के लिए अलग तरह के ग्राहक होंगे और बच्चों के कपड़ों के लिए अलग तरह के ग्राहक होंगे. इसलिए आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप अपना ग्राहक तय करें और उसी के अनुसार अपनी रणनीति तय करें।
  8. रेडीमेड गारमेंट्स की क्वालिटी का ध्यान रखें
    • गारमेंट शॉप्स में कॉम्पिटिशन ज्यादा होता है इसलिए इसे जीतने के लिए आपको क्वालिटी पर ज्यादा फोकस करना होगा। कपड़ों में नवीनतम डिजाइनों से अपडेट रहें और मार्जिन कम होने पर भी गुणवत्ता से कभी समझौता न करें।
    • किसी भी तरह का बिजनेस शुरू करने से पहले यह बेहद जरूरी है कि आप अपने आसपास के बाजार और उनकी पसंद को अच्छी तरह से जान लें। रेडीमेड गारमेंट व्यवसाय में अपने क्षेत्र के रुझानों पर नजर रखें और मूल्य मानदंड तय करें। हर क्षेत्र की खर्च करने की क्षमता अलग होती है। यह वहां रहने वाले लोगों पर निर्भर करता है। कोई भी व्यवसाय शुरू करने से पहले अपने क्षेत्र के बाजार के बारे में अच्छी तरह जान लें।
  9. मार्केटिंग का प्लान तैयार करें
    • आपके मार्केटिंग का क्षेत्र और योजना पूरी तरह से आपके लक्षित ग्राहक पर आधारित है। उदाहरण के लिए, यदि आप लड़कियों के कपड़े बेच रहे हैं, तो आपका मार्केटिंग क्षेत्र और रणनीति उन्नत होनी चाहिए। आप सोशल मीडिया या डिजिटल मीडिया का उपयोग कर सकते हैं। वैसे यह बात बच्चों या लड़कों के मामले में भी लागू होती है। मार्केटिंग का मुख्य तरीका यह है कि अगर आप यंगस्टर्स को टारगेट कर रहे हैं तो आपके प्रमोशन के तरीके भी उन्हीं के मुताबिक होने चाहिए। ताकि आप उन तक पहुंच सकें।

अन्य लेख पढ़ें: New Business Ideas in Hindi

रेडीमेड कपड़ों की दुकान के लिए मार्केटिंग रणनीति

दोस्तों व्यापारियों के लिए एक मार्केटिंग योजना वह प्लान होता है, जिससे वे तय करते हैं कि उनका सामान या सेवा किसे और कहाँ बेचना है। आजकल, इंटरनेट पर बहुत सारे तरीके हैं जिनके माध्यम से विज्ञापन किए जा सकते हैं, जैसे वेबसाइट और सोशल मीडिया। युवाओं के लिए डिजिटल मार्केटिंग बहुत अच्छा होता है ताकि व्यापारी उन तक पहुंच सकें। महिलाओं तक विज्ञापन पहुचाने के लिए पत्रिकाएँ भी अच्छी हो सकती हैं। अगर कोई व्यापारी किसी खास इलाके में लोगों के पास पहुंचना चाहता है, तो उसे स्थानीय टीवी चैनल या समाचार पत्रों का सहारा लेना चाहिए। और अगर उन्हें बच्चों को आकर्षित करना है, तो सिर्फ उनके लिए बनाए गए रंगीन पैम्फलेट और पत्रिकाएँ बेहतर विकल्प होंगे।

रेडीमेड कपड़ों की दुकान की मार्केटिंग करने के कुछ तरीके निम्नलिखित है:

  • अपनी दुकान को सबसे अलग बनाएं: दोस्तों अपने कपड़ों की दुकान के लिए एक अनूठी और शानदार छवि बनाएं। एक आकर्षक नाम के साथ आएं, एक मज़ेदार लोगो डिज़ाइन करें, और चमकीले रंगों का उपयोग करें जो लोगों का ध्यान आकर्षित करें।
  • एक बेहतरीन वेबसाइट बनाएं: आज कल के ज़माने में डिजिटल होना कितना जरूरी है आप सब को पता ही है इसलिए अपनी दुकान के लिए एक वेबसाइट बनाएं जो आपके पास मौजूद सभी बेहतरीन कपड़ों को प्रदर्शित करे। लोगों के लिए अपनी पसंद की चीज़ें ढूंढना और ऑनलाइन कपड़े खरीदना आसान बनाएं। इसे फोन पर भी अच्छा काम करना चाहिए।
  • सोशल मीडिया का प्रयोग करें: दोस्तों बच्चों को सोशल मीडिया पसंद है! अपने कपड़े दिखाने के लिए Instagram, Facebook और Pinterest जैसे प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करें। शानदार पोशाकों की तस्वीरें पोस्ट करें और लोगों को विशेष प्रस्तावों के बारे में बताएं। आप लोकप्रिय इन्फ्लुएंसर्स के साथ भी काम कर सकते हैं जो आपकी दुकान को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं।
  • विशेष छूट दें: सभी को अच्छा सौदा पसंद है! ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए विशेष छूट और ऑफ़र प्रचार करें। यह छुट्टियों के दौरान बिक्री या वफादार ग्राहकों को पुरस्कार देना हो सकता है। लोगों को अपनी वेबसाइट और सोशल मीडिया पर इन ऑफर्स के बारे में बताएं।
  • फैशन इवेंट्स में भाग लें: दोस्तों, रोमांचक फैशन इवेंट्स में भाग लें या अन्य महान व्यवसायों के साथ सहयोग करें। इससे अधिक लोगों को आपकी दुकान के बारे में जानने और चर्चा बनाने में मदद मिलेगी। आप नए दोस्तों से मिल सकते हैं जो फैशन से प्यार करते हैं और नई चीजें भी सीखते हैं!
  • ग्राहकों के साथ अच्छा व्यवहार करें: अपने ग्राहकों के साथ अच्छा व्यवहार करें और उन्हें विशेष महसूस कराएं। उन्हें सही पोशाक खोजने में मदद करें और उन्हें फैशन सलाह दें। उनके खरीदारी के अनुभव को मजेदार और सुखद बनाएं। खुश ग्राहक अपने दोस्तों को आपकी दुकान के बारे में बताएंगे!
  • शानदार विज्ञापन दिखाएं: लोगों को अपनी दुकान के बारे में बताने के लिए वेबसाइटों या सोशल मीडिया पर ऑनलाइन विज्ञापनों का उपयोग करें। मज़ेदार और ध्यान आकर्षित करने वाले विज्ञापन बनाएँ जो यह दिखाते हों कि आपके कपड़े कितने शानदार हैं। आप चुन सकते हैं कि इन विज्ञापनों को कौन देखेगा, जैसे आपके शहर के बच्चे या समान रुचियों वाले बच्चे।

याद रखें, रचनात्मक और फ्रेंडली होना और अपनी दुकान को अद्वितीय बनाना महत्वपूर्ण है। नवीनतम फैशन रुझानों के साथ अद्यतित रहें और सुनें कि आपके ग्राहक क्या पसंद करते हैं। अपने कपड़ों की दुकान की मार्केटिंग का मज़ा लें और सुनिश्चित करें कि हर कोई जानता है कि आपके कपड़े कितने शानदार हैं!

भारत में कहाँ-कहाँ मिलते हैं सबसे सस्ते कपड़े : Where can I get the cheapest clothes in India?

  • मध्यप्रदेश : बैरागढ़ मार्केट, चौक बाजार (पुराना भोपाल), जबलपुर मीना बाजार, इंदौर का क्लाथ मार्केट अपने विभिन्न प्रकार के कपड़ों के लिए प्रसिद्ध है।
  • नई दिल्ली : करोल बाग बाजार, गांधी मार्केट, कश्मीरी गेट बाजार, सरोजनी नगर और लाजपत नगर, जैसे लोकप्रिय खरीदारी स्थलों का घर है, जो किफायती कपड़ों के विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला पेश करता है।
  • गुजरातः अहमदाबाद के रानी नो हजीरो, लाल दरवाजा और धालगढ़वाड़ के बाजार अपने सस्ते कपड़े और कपड़ों के उत्पादों के लिए लोकप्रिय हैं। और सूरत में आपको टेक्सटाइल मार्केट मिल जाएगा जहाँ खासकर दूल्हा-दुल्हन के कपड़े आपको किफयेती दाम में मिल जायेंगे।
  • महाराष्ट्र: मुंबई में फैशन स्ट्रीट, कोलाबा कॉजवे और लिंकिंग रोड जैसे कई बाजार हैं, जहां आपको बजट के अनुकूल कपड़े मिल सकते हैं।
  • राजस्थान : जयपुर का जौहरी बाजार, बापू बाजार और नेहरू बाजार अपने पारंपरिक राजस्थानी कपड़ों के उचित मूल्य के लिए प्रसिद्ध हैं।
  • पश्चिम बंगाल: कोलकाता का न्यू मार्केट, गरियाहाट मार्केट और हतीबागन मार्केट अपने किफायती कपड़ों और अच्छे दामों के लिए जाने जाते हैं।
  • कर्नाटक: बैंगलोर में कमर्शियल स्ट्रीट, चिकपेट और ब्रिगेड रोड जैसे बाज़ार हैं, जहाँ आप सस्ते कपड़े और स्ट्रीट फैशन पा सकते हैं।

रेडीमेड कपड़ों की दुकान में आवश्यक निवेश

कपड़े के व्यापार में आपको शुरू में अधिक निवेश की आवश्यकता नहीं होती है, विशेषकर अगर आप एक प्रकार का कपड़ा चुनते हैं। कई लोग घर से ही इस व्यापार की शुरुआत करते हैं, खासकर महिलाएं। हालांकि, यदि आप अच्छा बिज़नेस करना चाहते हैं, तो आपका मार्केट में एक स्टोर होना चाहिए। एक उचित स्थान चुनें और वहां एक स्टोर किराए पर लें, यदि आपके पास अपना स्थान है तो आपको चिंता करने की ज़रूरत नहीं होगी। स्टोर की डेकोरेशन में अधिक खर्च न करें, लेकिन आवश्यकतानुसार खर्च कर सकते हैं।

आपको डेकोरेशन, आवश्यक फर्नीचर, काउंटर, आदि के लिए अधिकतम 1 लाख रुपये तक का निवेश करना चाहिए, और यदि आपके पास अधिक बजट है तो आप अधिक भी खर्च कर सकते हैं।

अब बिक्री के अनुसार आपको स्टॉक रखना होगा, इसलिए शुरू में आपको कम स्टॉक रखना चाहिए, लेकिन वेराइटी अधिक रखें। किसी एक प्रकार के कपड़े या साइज़ में अधिक खर्च न करे। बिक्री के अनुसार आपको अपने स्टॉक को अपडेट करते रहना चाहिए। यदि आप साधारण स्टोर चला रहे हैं और उच्च गुणवत्ता वाले और सस्ते कपड़े का स्टॉक रखते हैं, तो आप आसानी से 2 लाख रुपये तक का अच्छा स्टॉक रख सकते हैं

कभी भी लालच में हल्की क्वालिटी के कपड़े न बेचें, क्योंकि इससे आप एक बार में मुनाफा कमा सकते हैं, लेकिन ग्राहक वापस नहीं आएगा। इसलिए, क्वालिटी में कमी न रखें।

आवश्यक स्टाफ और उनकी सैलरी का खर्च

दोस्तों, आपका व्यवसाय चलाने में आपकी मदद करने के लिए आपकी टीम अच्छी होनी चाहिए। अपने व्यवसाय के आधार पर, ऐसे लोगों को रखें जो कपड़ों और नवीनतम फैशन ट्रेंड के बारे में जानते हों। उन्हें ग्राहकों को अच्छी सलाह देने में सक्षम होना चाहिए। पास में एक दर्जी का होना भी जरूरी है जो जरूरत पड़ने पर कपड़ों में बदलाव कर सके जैसे कुछ छोटा करना है कुछ फिटिंग करनी है आदि।

जब आप अपना व्यवसाय शुरू करते हैं, तो आपको बहुत अधिक कर्मचारियों की आवश्यकता नहीं होगी। बेहतर होगा कि शुरुआत में उन्हें कम सैलरी दी जाए ताकि आप आसानी से बिजनेस चला सकें। एक सामान्य दुकान के लिए आपको 1 से 2 स्टाफ की आवश्यकता होगी, और लगभग 5 से 7 हजार के वेतन में आप उन्हें आसानी से पा सकते हैं।

जब आप शुरू करते हैं तो आप मार्केटिंग का काम खुद संभाल सकते हैं। लेकिन यदि आप अपने व्यवसाय का विस्तार करना चाहते हैं, तो आपको मार्केटिंग के लिए एक अलग टीम की आवश्यकता होगी क्योंकि यह एक व्यक्ति के बस का काम नहीं होगा।

रेडीमेड कपड़ों की दुकान में मुनाफा और कीमत क्या होनी चाहिए?

दोस्तों, कपड़ों के कारोबार में हम कपड़ों की कीमत में 40 से 80 फीसदी का इजाफा कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। सबसे पहले, हम ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए छूट दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, हम 1000 रुपये की खरीद पर 10% की छूट और 2000 रुपये की खरीदारी पर 15% की छूट दे सकते हैं, इससे ग्राहक आपकी दुकान से और कपड़े खरीदना चाहेंगे।

छूट देना महत्वपूर्ण है जो की हमें लाभ कमाने में मदद करेगा और ग्राहकों को भी लाभान्वित करेगा। हम उन कपड़ों को भी डिस्काउंट मूल्य पर बेच सकते हैं जो फैशन में नहीं हैं।

रेडीमेड गारमेंट्स की दुकान के व्यवसाय में जोखिम और सावधानियाँ

दोस्तों भारत में रेडीमेड गारमेंट्स की दुकान के व्यवसाय में बहुत से जोखिम जुड़े होते हैं तो उसके लिए हमे सावधानियां लेनी पड़ेगी, हम आपको उनमे से कुछ जोखिम और सावधानियाँ बता रहे हैं।

प्रोडक्ट का चयन: आपकी दुकान में सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले प्रोडक्ट्स की पेशकश करना आवश्यक है। लेकिन इसके साथ ही प्रोडक्ट्स की मांग, ब्रांडिंग और दुर्लभता का भी ध्यान रखना चाहिए। इसलिए उचित विश्लेषण और बाजार अनुसंधान के बाद ही अपना प्रोडक्ट चुनें।

इन्वेंटरी का प्रबंधन: उचित इन्वेंट्री प्रबंधन होना बेहद जरूरी है। सही मात्रा में स्टॉक रखें ताकि आपकी दुकान में उपलब्ध कपड़ों की बिक्री हो सके और साथ ही आपको अधिक से अधिक बिक्री करने का मौका मिले। इसके लिए बाजार की मांग को गहराई से समझें और इन्वेंट्री का नियमित निरीक्षण करें।

ग्राहक संबंधों का ख्याल रखें: अपने ग्राहकों के साथ अच्छे संबंध बनाना और उनकी सेवा करना आपके व्यवसाय के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। उनकी जरूरतों को समझें, उनके सुझावों पर ध्यान दें और बेस्ट ग्राहक सेवा प्रदान करें।

कानूनी प्रतिबंधों का पालन करें: व्यवसाय के क्षेत्र में कानूनी और नियमित रूप से चलने की आवश्यकता होती है। आपको स्थानीय, राज्य और केंद्र सरकार के नियमों का पालन करना चाहिए, जैसे आवश्यक लाइसेंस का भुगतान और कपड़ा बेचने के लिए कर।

यदि आप इन सावधानियों का पालन करते हैं, तो आपके रेडीमेड कपड़ों की दुकान के व्यवसाय में सफलता की संभावना बढ़ जाएगी।

FAQ: रेडीमेड कपड़ों की दुकान से सम्बंधित लोग यह भी पूछते हैं:


क्या भारत में रेडीमेड कपड़ों की दुकान का व्यवसाय लाभदायक है?

जी हाँ, बिलकुल लाभदायक है. इस में कम से कम 20 से 80 प्रतिशत का मुनाफा कमाया जा सकता है, जिस्से इस व्यवसाय को भारत में सबसे अधिक मुनाफे वाले व्यवसायों में से एक माना जाता है.


गारमेंट शॉप बिजनेस के लिए कितना निवेश चाहिए?

आपको डेकोरेशन, आवश्यक फर्नीचर, काउंटर, आदि के लिए अधिकतम 1 लाख रुपये तक का निवेश करना चाहिए, और 2 लाख रुपये तक का अच्छा स्टॉक रखना चाहिए।

निष्कर्ष (Conclusion)

हम ने आपको इस लेख में बताया है रेडीमेड गारमेंट का व्यवसाय क्या होता है?, रेडीमेड गारमेंट्स बेचने की गुंजाइश?, रेडीमेड कपड़ों की दुकान कैसे खोलें?, रेडीमेड कपड़ों की दुकान के लिए मार्केटिंग रणनीति, भारत में कहाँ-कहाँ मिलते हैं सबसे सस्ते कपड़े, रेडीमेड कपड़ों की दुकान में आवश्यक निवेश, आवश्यक स्टाफ और उनकी सैलरी का खर्च, रेडीमेड कपड़ों की दुकान में मुनाफा और कीमत क्या होनी चाहिए? और रेडीमेड गारमेंट्स की दुकान के व्यवसाय में जोखिम और सावधानियाँ

हमे उम्मीद है दोस्तों आपको यह रेडीमेड कपड़ों की दुकान कैसे खोलें? से सम्बंधित जानकारी ज़रूर अच्छी लगी होगी, अगर अच्छी लगी होगी तो हमे comment box में लिख कर ज़रूर बताइयेगा और अपने दोस्तों के साथ ज़रूर साझा करियेगा.

अन्य पढ़ें:

Electric Vehicle Charging Station Business कैसे शुरू करें

टूर एंड ट्रैवेल एजेंसी का बिजनेस कैसे करें

नई कंपनी कैसे शुरू करें

Resource of this article

Share to your loved ones
Kaise Kya Kare(Team)
Kaise Kya Kare(Team)

Kaise kya kare(Team) एक लेखको का समूह है जो आपके लिए रोचक लेख लिखते आये है और आगे भी लिखेंगे.

Articles: 30

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *