Perfect Relationship के 4 Rules: जानिए शुरुआत कैसे करें

नमस्कार दोस्तों!

PERFECT RELATIONSHIP सभी को चाहिए होती है. लेकिन क्या सभी relationship सफल होते है? नहीं ना…तो चलिए थोडा PERFECT RELATIONSHIP के बारे में विस्तार से जानते हैं और उसे कैसे शुरू करें.

हम Perfect Relationship को विज्ञानं की नज़र से समझाएंगे. अगर आपने किसी के साथ relationship शुरू किया है, अगर आपको किसी से प्यार हो गया है, तो आपको यह भी याद रखना चाहिए की इस relationship को आप और बेहतर या perfect बना सकते हो.

आपको एक खास बात का भी ध्यान रखना चाहिए की relationship में आपको बहुत से इशारे मिलेंगे जिससे आपका यह रिश्ता या तो संवर जाएगा नहीं तो बिगड़ जाएगा, अब ये आप पर निर्भर करता है आप क्या चाहते है.

यह इशारे दो प्रकार के होते हैं, लाल(red) सिग्नल्स होते है relationship में और हरा(green) सिग्नल्स होते है relatonship में.

रेड सिग्नल्स(red signals) यानी की कुछ ऐसे points जिसकी वजह से आपको डरना चाहिए, ये points भविष्य के पूर्वानुमान वाले होते है जैसे आज कोई चीज़ ख़राब है relationship में, तो कल जाकर और भी ज्यादा खराब हो सकती है.

और अगर ग्रीन सिग्नल्स(green signals) है तो इसका ये मतलब है की आज जो चीज़े अच्छी हैं वो कल जाकर और भी ज्यादा अच्छी हो जाएगी.

Perfect Relationship क्या होता है?

what is perfect relationship
Perfect Relationship

एक Perfect Relationship में दो लोग होते हैं जो दिन के अंत में अपना-अपना कार्य करके एक-दूसरे के पास वापस आने का, बात करने का, मिलने का आनंद लेते हैं और ऐसा महसूस करते हैं कि जब भी वे उनके आस-पास होते हैं तो जेसे वो हैं वेसे ही रह सकते है बिना किसी रोक-टोक के, उन्हें किसी और के होने का दिखावा करने की ज़रूरत नहीं होती है.

एक आदर्श रिश्ते में दो लोग होते हैं जो एक दूसरे को समान मानते हैं.

चलिए हमने मूल बात perfect relationship क्या है जान लिया है अब ज़रा उसे कैसे शुरू करना चाहिए वो भी जान लिया जाए.

Perfect Relationship को शुरू करने के 4 rules (How to start a perfect relationship)

  1. अपने रिश्ते को धीरे-धीरे आगे बढ़ाएं (take it slowly)
  2. एक दूसरे के बाहर भी आपकी एक ज़िन्दगी है (have a life outside of each other)
  3. दीर्घकालिक मानसिकता का मेल होना चाहिए (have a match of long-term mindset)
  4. पूर्णता(perfection) की तलाश बंद करो (stop looking for perfection)
perfect relationship

अपने रिश्ते को धीरे-धीरे आगे बढ़ाएं (move forward your relationship slowly)

यह एक गोल्डन rule है इसलिए इसको सबसे पहले बताने जा रहे है.

अब आप सोच रहे होगे इस rule का क्या मतलब है.

देखो दोस्तों हम Brown skin वाले लोग जिसमे INDIA, Pakistan, Sri Lanka, Bangladesh आदि देश आते है, इन देशों के लोग काफी जज्बाती होते है.

हमारे दिल में अन्दर(inbuilt) ही बहुत सारा प्यार होता है, खूब सारा इमोशनल होते है.

और मान लो आपकी ज़िन्दगी में कोई बढ़िया सा partner आ गया ना तो आप उनको अपना पुरा दिल दे बैठते हो और वो भी पहेले दिन से ही, ये चीज़ सबसे गलत है.

दिल देना गलत नहीं है पर पहले दिन से पूरा दिल दे देना बहुत गलत हो जाएगा आपके लिए. आप अभी रोमांटिक चरण में हैं इसलिए ये होता है.

अगर आपको जानना है प्रेम संबंध के 5 चरण | 5 Stages of Love Relationship in Hindi तो आप पढ़ सकते है.

आप पूरा दिल अपने partner को दीजिये लेकिन किसी के साथ 2-3 साल बिताने के बाद अपना दिल दे दो. यह होती है एक स्वस्थ relationship की शुरुआत.

एक बहुत अच्छी टिप देते है, आपको अपने रिश्ते के शुरुआत में बहुत ज्यादा efforts/intensity नहीं डालना अगर आप पहले ही ये कर देते हो तो आगे जाकर ये efforts/intensity कम हो जाते है जो कि आप दोनों के रिश्ते को खराब कर सकता है.

एक दूसरे के बाहर भी आपकी एक ज़िन्दगी होनी चाहिए (have a life outside of each other)

अगर आप अपनी पूरी ज़िन्दगी एक दुसरे के बारे में बना दोगे तो वो आपके दिल के लिए एक unhealthy परिस्तिथि बन जाती है.

फिर आपकी पूरी दुनिया वो दूसरा इंसान control करेगा, और ये अच्छी बात नही है क्यूंकि आपकी भावनाएं आपके control में ही होनी चाहिए न की किसी और के.

इसीलिए एक दूसरे के बाहर भी आपकी एक ज़िन्दगी होनी चाहिए

जैसे आपके college के दोस्तों या आपके साथ काम करने वाले साथी के साथभी आप घूम-फिर सकते है.

मान लो आप खूब सारा काम करके आते हो और आपके gf/bf से आप मिलते हो तो आप अपने आप को relax कर सकते हो, tension मुक्त हो सकते हो.

Relationship Shouldn’t Be Your Life, It Should Be A Part Of Your Life

दीर्घकालिक मानसिकता का मेल होना चाहिए (have a match of long-term mindset)

हर इंसान आपकी लाइफ को एक तौर-तरीके से देखता है, की 40-50 साल की उम्र में हमारी लाइफ या ज़िन्दगी ऐसी होगी, मेरी family ऐसी होगी, मेरा घर ऐसा होगा, मै यहाँ रहूँगा/रहूंगी आदि.

और ये सब चीज़े एक relationship में मेल खानी चाहिए नही तो आगे जेक ये एक बड़ी लड़ाई की वजह बन सकती है.

अगर दूर का सोचे तो प्यार फीका पड़ जाता है, लेकिन साझेदारी बनी रहती है.

और अगर आपको अपने bf/gf के साथ साझेदारी बनानी है तो दूरगामी लक्ष्य (long term goals), महत्वाकांक्षा (ambitions) मेल खानी चाहिए और आप ये सारी चीज़े अपने bf/gf के साथ सीधी चर्चा करनी चाहिए.

इसीलिए आप दोनों के दीर्घकालिक मानसिकता का मेल होना चाहिए

पूर्णता(perfection) की तलाश बंद करो (stop looking for perfection)

अगर आपने अपने ड्रीम partner के बार में एक list बनाई होगी के आपके gf/bf/wife/husband में ये-ये चीजें होनी चाहिए तो यह नहीं होने वाला है.

आपके ड्रीम partner की खूबी [10/10]

  1. Sense Of Humour(हास्यवृत्ति)
  2. No Game Playing (उनके साथ खिलवाड़ न करे)
  3. A Strong Friendship(एक अच्छी दोस्ती)
  4. Reliabality(विश्वसनीयता)
  5. Romantic(प्रेम प्रसंगयुक्त)
  6. A Trusting Partner(एक भरोसेमंद साथी)
  7. Respect(आदर करे)
  8. They Get On With Your Family(वे आपके परिवार के साथ मिलते हैं)
  9. They Make Time For You(वे आपके लिए समय निकालते हैं)
  10. Being Honest(ईमानदार)

आपके रियल partner की खूबी [07/10]

  1. Sense Of Humour(हास्यवृत्ति)
  2. No Game Playing (उनके साथ खिलवाड़ न करे)
  3. A Strong Friendship(एक अच्छी दोस्ती)
  4. Reliabality(विश्वसनीयता)
  5. Romantic(प्रेम प्रसंगयुक्त)
  6. A Trusting Partner(एक भरोसेमंद साथी)
  7. Respect(आदर करे)
  8. They Get On With Your Family(वे आपके परिवार के साथ मिलते हैं)
  9. They Make Time For You(वे आपके लिए समय निकालते हैं)
  10. Being Honest(ईमानदार)

एक इंसान perfect हो ही नही सकता भले ही वो अपने आप को perfect माने लेकिन यह असंभव है.

हर इंसान अलग होता है जैसे अपने हातों की उंगलियाँ होती है.

तो इस बात को ध्यान में रखते हुए आप किसी में perfection मत ढूँढिये, आप ज्यादा लोगो को reject मत कीजिये क्यूंकि वे perfect नहीं है.

आप खुद को देखिये क्या आप perfect हैं? नहीं ना, हर इंसान में कमी होती है.

अगर आपको एक इंसान मिल गया जो [07/10] है, 7 चीजें मेल खाती है और 3 नहीं तो उन 3 चीजों को भूल जाओ यार समझौता(compromise) करो.

एक स्वस्थ रिश्ता समझौते(compromise) पर बनता है. कोई भी दो इंसान कभी मेल खाएंगे ही नहीं भले ही वो soul-mates ही क्यूँ न हों. आपको वहाँ वो 3 चीजों को भूलकर उन 7 चीजों पर घ्यान देना चाहिए.

उनके negatives को भुलाकर उनके positives को अपनाना होगा.

अगर उनके negatives ज्यादा है और positives कम और या तो उनके negatives आपकी नैतिकता(moral) के खिलाफ हैं तो फिर आप ब्रेकअप (Breakup) कर लीजिये.

ये होता है एक कड़वा सच दोस्तों. एक बिज़नस की थ्योरी है जो relationship में apply होती है (किसी ऐसी चीज़ के लिए कुछ अच्छा छोड़ने से कभी न डरें जो और भी बेहतर हो सकती है)

तो यह आपको खुद से पूछना है की जो ये आपका partner है क्या आप उनके साथ एक दीर्घकालिक भविष्य (long term future) देखते है? अगर उत्तर है “हाँ” तो आपको अपने relationship में efforts डालते रहना चाहिए, समय देना चाहिए, प्यार करते रहना चाहिए.

निष्कर्ष (Conclusion)

“Perfect Relationship के 4 Rules: जानिए शुरुआत कैसे करें” इसमें आपने perfect relationship के बारे में जाना है. जैसे की perfect relationship क्या होता है?, perfect relationship के महत्वपूर्ण rules कौन-कौन से होते है.

आप सभी अपने relationship को बेजोड़ होने से बचा सकते हो, तो आज ही अपनाएँ ये 4 rules जो आपके relationship को और भी ज्यादा perfect व अटूट बना देंगे. हमको आशा है की आपका एक perfect relationship बने.

आप अपने साथीके साथ इस लेख को साझा ज़रूर करें ताकि वो भी इन rules को अपनाएँ और आपका साथ दें एक perfect relationship बनाने में.

लोग यह भी पूछते हैं:

रोमांटिक Relationships कितने प्रकार के होते है?

Romantic Relationship 6 प्रकार के होते है.

1. सह-निर्भर संबंध (Codependent Relationships)

2. स्वतंत्र रिश्ते (Independent Relationships)

3. प्रमुख/विनम्र संबंध (Dominant/Submissive Relationships)

4. खुले रिश्ते (Open Relationships)

5. लॉन्ग-डिस्टेंस रिश्ते (Long Distance Relationships)

6. जहरीले रिश्ते (Toxic Relationship)

एक Healthy Relationship कैसे बनाएं?

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अभी अपने रिश्ते में कौनसे प्रकार पर हैं, चाहे कुछ dates की हों या शादी के 30 साल हो गए, आपको हमेशा एक healthy relationship में विकसित होने की कोशिश करनी चाहिए.
यदि आप यह देखना चाहते हैं कि आपके लिए किस प्रकार का relationship सही है, तो उत्तर हमेशा healthy relationship होता है.
किसी रिश्ते में गहरे और सार्थक स्तर पर किसी और की परवाह करने की क्षमता होती है। इसके लिए वास्तव में सहानुभूति रखने की क्षमता की आवश्यकता होती है
एक बार जब हम अपनी सीमाओं या स्वयं की भावना को पूरा करने के लिए किसी और को खोजने की कोशिश करते हैं, तो रिश्ता कुछ ऐसा बन जाता है जो कभी नहीं होना चाहिए.
एक healthy relationship दो जिंदगियों को एक साथ जोड़ने के लिए एक सच्चा, ईमानदार समझौता है. यह एक भरोसेमंद प्यार पाने के बारे में है जो एक-दूसरे को समझता है और आप दोनों की भावनाओं को समझता है.
आप सही रिश्ते पर कभी “पहुंच” नहीं पाएंगे, लेकिन अगर आप लगातार बढ़ते हैं, तो आपके पास जो है उसमें हमेशा सुधार होता रहेगा. और इसका मतलब है कि पहले खुद को healthy रखना.
इससे पहले कि आप “उस एक” को खोजने की उम्मीद में किसी चीज़ में भाग लें, आपको यह समझने की ज़रूरत है कि आपके relations उतने ही healthy हैं जितने आप हैं.
उस सह निर्भरता, टॉक्सिक या दूर के साथी बनने का जोखिम उठाने से पहले आपको अपने आप में पूर्णता(perfection or completion) खोजने की जरूरत है.

Share to your loved ones
Default image
Kaise Kya Kare(Team)
Kaise kya kare(Team) एक लेखको का समूह है जो आपके लिए रोचक लेख लिखते आये है और आगे भी लिखेंगे.
Articles: 11

Leave a Reply