ध्यान करने के लिए (MEDITATION) यह 5 बातें है जरूरी | HOW TO DO MEDITATION AT HOME IN HINDI

नमस्कार दोस्तों! आज हम meditation at home in hindi में आपको बताते है. आज का युग मनुष्य के लिए विविधताओं से परिपूर्ण है। आज के इस युग में अगर मनुष्य को जीवित रहना है तो उसे निरंतर कार्यरथ रहना ही होगा। निरंतर कार्यरथ रहने के लिए आपको अपने शरीर व दिमाग को स्वसथ्य रखना होगा।

हममें से कई लोग शरीर को स्वस्थ रखने के लिए तो काफी प्रयत्न करते है, लेकिन मस्तिष्क के स्वास्थ्य को नज़रअंदाज़ कर देते है।

लेकिन मस्तिष्क ही हमारे शरीर का वह अंग है जो बाकि सभी अंगो को एकजुट रखता है।

अतः मनुष्य के मस्तिष्क का स्वस्थ्य होना अत्यधिक आवश्यक है।

एक स्वस्थ एवं सक्रिय दिमाग ही आपको रोजमर्राह की ज़िंदगी में सर्वोत्तर रख सकता है।

तो दोस्तों क्या आपको पता है कि आप अपना दिमाग किस तरह सक्रिय रख सकते है?

जी हां दोस्तों सिर्फ ध्यान ही एक ऐसा रास्ता है जिससे आप अपने दिमाग को तन्दरुस्त रख सकते है।

तो आईए दोस्तों जानते है कि ध्यान कैसे किया जाए एवं ध्यान करने के और क्या-क्या फायदें हैं।

ध्यान (Meditation) करने के लिए सही समय

ध्यान करने के लिए सूर्योदय के पूर्व का समय श्रेष्ण माना गया है। हालाकि हम दिन के किसी भी वक्त ध्यान (MEDITATION) कर सकते है।

आप किस वक्त ध्यान कर रहे है वह काफी हद तक आपकी जीवन शैली पर भी निरभर करता है।

ध्यान करने के लिए सुबह का समय इसलिए श्रेष्ण माना गया है क्यांकि उस वक्त आपका दिमाग तरो तोजा व दिनभर की थकावट से मुक्त होता है।

सुबह सवेरे ध्यान करने से आप अपने आप को अपनी दिन भर की योजाओं के लिए तैयार कर सकते है।

प्रातः काल ध्यान करने से आपका दिमाग स्थिर होगा जिससे कि आप अपने नैतिक कर्त्वयां को सरलता से नीभा सकेंगे।

रात के समय, सोने के पूर्व, ध्यान करने से आप अपने शरीर एवं दिमाग को शांत व तनाव मुक्त कर सकते है। इससे आप एक अच्छि एवं शंतिपूर्ण नींद का अनुभव ले सकते है।

नींद लेने के पूर्व ध्यान कर लेने से आप चिंता मुक्त एवं शांत महसुस करेंगे जिससे आपकी नींद की गुणवत्ता और बढ जाएगी। इससे अनिद्रा की शिकायत भी दूर होती है।

ध्यान करने के लिए आप अपनी जीवन शैली के अनुसार समय निर्धारित करे और कोशिश करे की प्रतिदिन आप उसी समय पर ध्यान करें।

ध्यान (Meditation) करने के लिए किस स्थान एवं दिशा में बैठें

ध्यान करने के लिए सही दिशा एवं स्थान का चयन काफी महत्वपूर्ण है।

एक तरफ जहा ध्यान करने के कई आध्यातमिक फायदें है, तो दूसरी ओर अगर आपसे थोडी भी भूल होती है तो इसके विपरीत परीणाम भी हो सकते है।

अतः कोई भी लापरवाहि न बरतें।

ध्यान करने के लिए सर्वप्रथम आप एक स्वच्छ एवं शांत वातावरण में जाए।

स्वच्छ एवं शांत वातावरण ध्यान करने के लिए सर्वश्रेष्ण होता है।

अगर आप ध्यान करने के पूर्व स्नान करते है तो यह और भी लाभदायक सिद्ध हो सकता है।

जितना स्वच्छ व शांत वातावरण होगा, ध्यान की गुणवत्ता उतनी ही अत्यधिक होगी।

ध्यान करने के लिए पूर्व एवं पूर्वोत्तर दिशा को श्रेष्ण माना गया है।

वास्तु शास्त्र में भी पूर्वोत्तर दिशा को श्रेष्ण कहा गया है।

इस ओर धरती की सबसे शक्तिशाली चुंबकिय उूर्जा का वास होता है।

ध्यान करने के लिए उत्तर दिशा भी अच्छि मानी गयी है।

परतुं ध्यान करने के लिए दक्षिण दिशा में मुख नहीं रखना चाहिए।

ध्यान करने के लिए प्रतिदिन नवीन स्थानों के प्रयोग से बचें।

ध्यान (Meditation) करने की सही विधि

तो दोस्तों जिस तरह एक अच्छि नींद से शरीर की थकावट से हम निजात पाते है, उसी तरह सही तरह से किया हुआ ध्यान (MEDITATION) हमारे दिमाग को तमाम तरह की थकान से छुटकारा दिलाने में मदद करवाता है।

सही स्थान एवं दिशा जानने के पश्चात आइए जाने कि ध्यान करने के लिए सही तरीका क्या होता है।

ध्यान करने के लिए सबसे पहले आप अपने निश्चित स्थान पर बैठ जाए।

ध्यान करने के शुरूवाती दौर में आप केवल शांति से बैठे एवं अपनी आखों को बंद कर के अपनी श्वास पर गौर करें। धीरे-धीरे व लम्बी सांस ले।

एक पुरानी कहावत के अनुसार आपके प्रतिदिन यह प्रक्रिया लगभग 20 मीनट के लिए तो करना ही चाहिए और किसी दिन अगर आप के पास अतिरिक्त समय हो तो आप एक घंटे तक ध्यान में बैठ सकते है।

हालाकि शुरूवात में आप 5-10 मीनट के लिए यह करें और धीरे-धीरे समय को बढाए।

ध्यान करते वक्त आप अपने शरीर के बारे में चिंतन करें और अपने आस पास की शक्तियों को महसूस करें। विचारों को बहने दे, उन्हें नियंत्रित करने की कोशिश न करें।

ध्यान रहे आपको ’कुछ नही’ करना है जिसका यह मतलब है कि कुछ भी नियंत्रित करने की कोशिश न करें।

ध्यान (Meditation) करने के लिए मददगार चिजे़

दोस्तों कई बार हमारे साथ ऐसा होता है कि हमे पता तो होता है कि हमें क्या करना है, लेकिन हम कई कारणों की वजह से या तो कर नही पाते है या करने मे मन नही लगता है।

तो दोस्तों आपको कुछ ऐसी चीजे़ बता देते है जो की आपको ध्यान करने के लिए मददगार साबित हो सकती है।

ध्यान करने के लिए आप किसी से मार्गदर्शन ले सकते है।

किसी के मार्गदर्शन में ध्यान करने से आपकी नियमितता बनी रह सकती है तथा आप गलत विधी को अपनाने से भी बच सकते हैं।

ध्यान करने के लिए आप मधुर संगीत का प्रयोग कर सकते है।

संगीत ध्यान करने के लिए आपको ऐकाग्र रखने में मददगार सिद्ध हो सकता है।

इसके अतिरिक्त मधुर संगीत से मन को शांति की अनुभुति तो होगी ही साथ ही इससे बुरे विचारों से भी बचा जा सकता है।

ध्यान करने के लिए आप प्रतिदिन सुनिश्चित् किए गए स्थान व समय का ही उपयोग करे।

ध्यान (Meditation) करने के अन्य लाभ

  • तनाव को कम करता है
  • चिंता को नियंत्रित करता है
  • भावनात्मक स्वास्थ्य में सुधार करता है
  • आत्म-जागरूकता में सुधार करता है
  • उम्र बड़ने के बाद की स्मृति हानि को कम करता है
  • व्यसनों (addictions) को दूर करने में मदद कर सकता है
  • आपकी नींद में सुधार करता है

Resource

अन्य पढ़ें: गहरी और अच्छी नींद के लिए 8 टिप्स

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों आज आपने जाना के ध्यान (Meditation) करने के लिए सही समय क्या है, ध्यान (Meditation) करने के लिए किस स्थान एवं दिशा में बैठें, ध्यान (Meditation) करने की सही विधि क्या है, ध्यान (Meditation) करने के लिए मददगार चिजे़ क्या-क्या होती है, ध्यान करने के लाभ आदि.

साथियों आप अपने दोस्तों एवं परिवार वालो के साथ इस लेख को साझा करे ताकि वो भी जान सकें घर पर ध्यान करना बहुत ही आसन होता है और हमे रोजाना करना चाहिए.

अन्य पढ़ें:

6 टिप्स KHUD KO HYDRATED KAISE RAKHE?

केला खाने के 7 फायदे और नुकसान

3 धीमे जहर हमारे भोजन में से आज ही निकाल दें 

Share to your loved ones
Default image
Kaise Kya Kare(Team)
Kaise kya kare(Team) एक लेखको का समूह है जो आपके लिए रोचक लेख लिखते आये है और आगे भी लिखेंगे.
Articles: 11

Leave a Reply